मराठी बातम्या  /  फोटोगॅलरी  /  Death Anniversary: अभिनयाचा ‘शहजादा’ इरफान खान; ‘या’ डायलॉग्समुळे नेहमीच राहील प्रेक्षकांच्या मनात!

Death Anniversary: अभिनयाचा ‘शहजादा’ इरफान खान; ‘या’ डायलॉग्समुळे नेहमीच राहील प्रेक्षकांच्या मनात!

Apr 29, 2024 09:53 PM IST Harshada Bhirvandekar

Irrfan Khan Death Anniversary: आजच्याच दिवशी चार वर्षांपूर्वी अभिनेता इरफान खान याने या जगाचा निरोप घेतला होता.  मात्र, त्याच्या काही डायलॉग्समुळे तो नेहमीच प्रेक्षकांच्या लक्षात राहील.

आजच्याच दिवशी चार वर्षांपूर्वी अभिनेता इरफान खान याने या जगाचा निरोप घेतला होता. इरफान खानचं निधन हे सिनेविश्वाचं मोठं नुकसान आहे.  इरफानने २९ एप्रिल २०२० रोजी या जगाचा निरोप घेतला. मात्र, त्याच्या काही डायलॉग्समुळे तो नेहमीच प्रेक्षकांच्या लक्षात राहील.
twitterfacebookfacebook
share

(1 / 10)

आजच्याच दिवशी चार वर्षांपूर्वी अभिनेता इरफान खान याने या जगाचा निरोप घेतला होता. इरफान खानचं निधन हे सिनेविश्वाचं मोठं नुकसान आहे.  इरफानने २९ एप्रिल २०२० रोजी या जगाचा निरोप घेतला. मात्र, त्याच्या काही डायलॉग्समुळे तो नेहमीच प्रेक्षकांच्या लक्षात राहील.

रिश्तों में भरोसा और मोबाइल पर नेटवर्क ना हो तो लोग गेम खेलने लगते हैं”- जज़्बा
twitterfacebookfacebook
share

(2 / 10)

रिश्तों में भरोसा और मोबाइल पर नेटवर्क ना हो तो लोग गेम खेलने लगते हैं”- जज़्बा

ये शहर जितना हमें देता है, बदले में उससे कहीं ज्यादा हमसे ले लेता है”- लाइफ इन अ मेट्रो
twitterfacebookfacebook
share

(3 / 10)

ये शहर जितना हमें देता है, बदले में उससे कहीं ज्यादा हमसे ले लेता है”- लाइफ इन अ मेट्रो

आदमी जितना बड़ा होता है, उसके छुपने की जगह उतनी ही कम होती है”- कसूर
twitterfacebookfacebook
share

(4 / 10)

आदमी जितना बड़ा होता है, उसके छुपने की जगह उतनी ही कम होती है”- कसूर

मोहब्बत थी इसलिए जाने दिया, जिद होती तो बांहों में होती”- जज्बा
twitterfacebookfacebook
share

(5 / 10)

मोहब्बत थी इसलिए जाने दिया, जिद होती तो बांहों में होती”- जज्बा

जिंदगी में कुछ भी होने से पहले ईमानदार होना बहुत जरूरी है - अंग्रेजी मीडियम
twitterfacebookfacebook
share

(6 / 10)

जिंदगी में कुछ भी होने से पहले ईमानदार होना बहुत जरूरी है - अंग्रेजी मीडियम

हम लोगों को हक जताना आता है, रिश्ते निभाना नहीं आता”- कारवां
twitterfacebookfacebook
share

(7 / 10)

हम लोगों को हक जताना आता है, रिश्ते निभाना नहीं आता”- कारवां

बीहड़ में बागी होते हैं, डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में - पान सिंह तोमर
twitterfacebookfacebook
share

(8 / 10)

बीहड़ में बागी होते हैं, डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में - पान सिंह तोमर

हमारी तो गाली में भी ताली बजती है - साहेब बीवी और गँग्स्टर रिटर्न्स
twitterfacebookfacebook
share

(9 / 10)

हमारी तो गाली में भी ताली बजती है - साहेब बीवी और गँग्स्टर रिटर्न्स

इन दिनों जिंदगी बहुत व्यस्त है, दुनिया में कई सारे लोग हैं और सबको वो चाहिए जो दूसरे के पास है - लंचबॉक्स
twitterfacebookfacebook
share

(10 / 10)

इन दिनों जिंदगी बहुत व्यस्त है, दुनिया में कई सारे लोग हैं और सबको वो चाहिए जो दूसरे के पास है - लंचबॉक्स

IPL_Entry_Point

इतर गॅलरीज